RSS Feed

वादा

बस 

अभी आता हूँ 

तुम रुको 

वादा रहा 

तुमने कहा 

मैं 

तब से इंतज़ार में हूँ 

दिन बीते 

रातें बीतीं 

मौसम बीते 

अब तब करते करते 

न जाने कितनी 

सदियाँ बीतीं  

ना तुम आये 

ना कोई पाती

ये अब कितना लम्बा होता है 

कोई मुझे समझाए  

~Indira

 

Advertisements

भाव

ख़त  जले राख बन कर उड़ गए

भाव तो दिल पर खुदे थे रह गए

कितने ही रंग भरो 

कितने ही रंग भरो 

कुछ बच  ही जाता है 

कितने ही ख्वाब बुनो 

कुछ छूट ही जाता है 

जीवन है एक पहेली 

या फिर  एक भूलभुलैया 

ढूढ़ने की कोशिश में 

कुछ हाथ न आता है 

मत मतलब ढूंढो तुम 

न मक़सद करो तलाश 

जितने भी रंग मिलें 

उनसे ही सजाओ जीवन 

जो इससे चुकेगा 

पीछे ही रह  जाता है 

 

Maa/ माँ

Posted on

बचपन में कहते

माँ एक कहानी सुना
अब कहते माँ
कोई कहानी मत बना
पहले मेरे  आंसुओं पर
तुम्हारे आंसूं पड़ते  निकल
अब मां  के आंसूं
लगते  इमोशनल  ब्लैकमेल
कहाँ कोई गलती हो जाती है
या शिक्षा में खुछ कमी रह जाती है
समझने समझाने में
एक उम्र निकल जाती है
खुशनसीब मिलता है वो
जिन्हे मिलता प्यार उम्र भर
वर्ना कई दाने दाने को तरसते हैं
भटकते हैं दर बदर
~Indira

हमारे नेता

Posted on
जब नेता सोये,  जनता रोये

जब जनता सोये, नेता खुश
मौज करेंगें , राज करेंगें
नए नए नारे और वादे
जनता को बेहोश रखेंगे
जागन की कोशिश जो करेंगे
करेंगे उसकी टायें  टायें फुस
अपनी ढपली खुद ही बजाएं
अपना अपना महिमा गान
काम काज अब कौन करे
जब  होये बिना काम मतलब सिद्ध
किस्मे  हिम्मत है
कौन करे गुब्बारा  फुस्स
Image result for greedy frog

मलाल / Malal

Posted on
बींधा
तीखी बातों से
एक दूजे को
हरदम
अब देखो वो जख्म
भीतर कैसे पलता है
लाख बिसारना चाहो
कांटे सा कसकता है
टीस उठे  हर  वक़्त
मरहम काम  ना करता है
नासूर बन न  जाये कहीं
हरदम  खून सा रिसता  है
वक़्त पर माफ़ी
मांग ली होती,
रहता नहीं मलाल
तुम भी चुप बैठे रहे
जैसे फर्क क्या पड़ता है
अहम् हमारा टकराये
मन कांच दरकता है
मन आहत पर
चेहरा बुजदिल
मुस्कानों को ढोता
हर रिश्ते का
एक मुखौटा
चिपका लेता है
~ इंदिरा

नाते -रिश्ते 

कितने नाते टूट गए 

कितने साथी रूठ  गए 
हम तो जहाँ थे  वहीँ रहे 
ना  जाने  सब कहाँ पर छूट गए 
नए नए साथी, नए नए रिश्ते 
बने  भी और बिखर गए 
जिससे  जितनी लिखी थी 
उतना ही साथ निभा गए 

यादें ही रह जाती हैं 

बस बातें ही बच जाती हैं 
कमी बहुत खलती है  मगर
दिन भी यूं ही  गुज़र गए 
भीड़ में आँखे खोजती हैं 
भूले , भटके ,कोई मिल जाए 
पर दुनिया एक सराय  है 
स आये, ठहरे और चले  गए 
~ इंदिरा 
mynamaste365online.wordpress.com/

Mental Health & Self-care Advocacy

ThoughtyOne

A community for nomads rejecting the Status Quo and rebelling against Mediocrity...

Grammy Writes

and takes pictures, and travels, and...

Rheumatoid Arthritis? Healed up with healing exercises called HeilÜben!

Gentle and feasible through a healthy posture and harmonic movement in training and everyday life

firehorseworld

It's all about perspective......

Constance Bourg

Poetry and Flash Fiction

Moda-Creative thinking

Moda-Creative thinking

Authentic Writer

The best Shayri, poetry, Story,philosophy , blogs & novel Writer

culturevultureexpress

A little bit of everything

Dutch goes the Photo!

Focus Hocus Pocus

Christine J Randall

writing fantasy for your entertainment

Nut House Central

Lets Go Nuts Together

L.E.R.T

Loose End of the Red Thread

Tale Spinning

An open experiment in creative fiction by Stuart Nager

Babsje Heron

Great Blue Herons: A study in patience and grace

P.A. Moed

Creative Exploration in Words and Pictures

Globe&Life

Through life and strife, all may still thrive.