RSS Feed

सलाह

प्यार है तो जताया भी करो 

दर्द है तो बताया भी करो 

रूठे हुओं को मनाया भी करो 

जज़्बात छिपाये तो 

टीस उठेगी 

छिपाने की जगह दिखाया भी करो 

ज्यादा दिन दूर रहने से 

दूरियां बढ़ जाती हैं 

कभी कभी दोस्तों से मिल आया भी करो 

बिन मांगी सलाह बहुत देते हो मेरी जान
कभी अपनी सलाह पर भी अमल कर आया करो

Somkritya’s artwork

Advertisements

ज़िन्दगी और मौत

Posted on

मौत ने पूछा
ज़िंदगी एक छलावा है
एक झूट है
हर दिन हर पल तुम्हारा साथ छोड़ती जाती है
फिर भी तुम उसे प्यार करते हो
मैं एक सच्चाई हूँ अंत तक तुम्हारा साथ निभाती हूँ
पर फिर भी तुम मुझसे नफरत करते हो
मुझसे डरते हो
मुझसे समझौता कर लो
फिर कोई डर तुम्हें डरा न पायेगा
मैंने कहा
तुम सत्य हो शाश्वत हो
अनिवार्य हो
पर तुमसे कैसे समझौता करलूं
तुम्हारी टाइमिंग बहुत गलत होती है
तुम गलत समय पर गलत लोगों को ले जाती हो
तुम गलत समय पर गलत तरीके से आती हो
पूछो उन बदनसीब अभिवावकों से
जिन्होंने खोए अपने लाल असमय
पूछो उन से ,
जिन्होंने ने गवाए अपने परिजन
आतंकवादियों के हाथों
उम्र  ना थी  की
जान गवाने की

जो मजबूर पीड़ित , बीमार

मरने की प्रार्थना करते हैं
उन्हें तुम तड़पने को छोड़ देती हो
बच्चों ,जवानों को अपना शिकार बनाती हो
कैसे करलूं तुमसे समझौता
तुम कड़वा सच हो, अनिवार्य हो पर
न्यायसंगत नहीं
काम से काम मेरी नज़र में तो नहीं
ज़िन्दगी लाख छलावा सही
मीठा झूठ सही
पर सुन्दर है जीने का,
लड़ने का हौसला देती है

इंदिरा

वादा

बस 

अभी आता हूँ 

तुम रुको 

वादा रहा 

तुमने कहा 

मैं 

तब से इंतज़ार में हूँ 

दिन बीते 

रातें बीतीं 

मौसम बीते 

अब तब करते करते 

न जाने कितनी 

सदियाँ बीतीं  

ना तुम आये 

ना कोई पाती

ये अब कितना लम्बा होता है 

कोई मुझे समझाए  

~Indira

 

भाव

ख़त  जले राख बन कर उड़ गए

भाव तो दिल पर खुदे थे रह गए

कितने ही रंग भरो 

कितने ही रंग भरो 

कुछ बच  ही जाता है 

कितने ही ख्वाब बुनो 

कुछ छूट ही जाता है 

जीवन है एक पहेली 

या फिर  एक भूलभुलैया 

ढूढ़ने की कोशिश में 

कुछ हाथ न आता है 

मत मतलब ढूंढो तुम 

न मक़सद करो तलाश 

जितने भी रंग मिलें 

उनसे ही सजाओ जीवन 

जो इससे चुकेगा 

पीछे ही रह  जाता है 

 

Maa/ माँ

Posted on

बचपन में कहते

माँ एक कहानी सुना
अब कहते माँ
कोई कहानी मत बना
पहले मेरे  आंसुओं पर
तुम्हारे आंसूं पड़ते  निकल
अब मां  के आंसूं
लगते  इमोशनल  ब्लैकमेल
कहाँ कोई गलती हो जाती है
या शिक्षा में कुछ  कमी रह जाती है
समझने समझाने में
एक उम्र निकल जाती है
खुशनसीब मिलता है वो
जिन्हे मिलता प्यार उम्र भर
वर्ना कई दाने दाने को तरसते हैं
भटकते हैं दर बदर
~Indira

हमारे नेता

Posted on
जब नेता सोये,  जनता रोये

जब जनता सोये, नेता खुश
मौज करेंगें , राज करेंगें
नए नए नारे और वादे
जनता को बेहोश रखेंगे
जागन की कोशिश जो करेंगे
करेंगे उसकी टायें  टायें फुस
अपनी ढपली खुद ही बजाएं
अपना अपना महिमा गान
काम काज अब कौन करे
जब  होये बिना काम मतलब सिद्ध
किस्मे  हिम्मत है
कौन करे गुब्बारा  फुस्स
Image result for greedy frog
Playing with words

Unclogging my mind...

Niharika's blog

Hindi poetry

Reena Saxena

Experiments in Creative Writing, and more ....

iScriblr

Life hacks, fashion and beauty tips, photography, health gyan, poetry and heartfelt musings about everything and anything under the sun!

Amazing Shining

We are about Amazing Things.

meri dairy

act out

Shreyans writes

Deserving has a attitude & non deserving has an ego

rprakashrao

THIS LIFE IS ENOUGH TO PROVE THEM WRONG.

My camera and I...

“Go, fly, roam, travel, voyage, explore, journey, discover, adventure.”

VESSELS of VISION

LIVE LOVE LEAD AUTHENTICALLY

R K Karnani blog

My likes, my words, my poems.....

EnigmaDebunked

Thoughts that provoke yours. (Season II coming in Jan 2020)

Hiren Khambhayta

Photographer - India

Whispers and Echoes

an online journal of short writing

Eldhiya Ghaits

Playing Words and Change the World!

crispina kemp

Crimson's prose, poems and photos

Something to Ponder About

Lifestyle, Travel, Traditional Art and Community