RSS Feed

रामधारी सिंह ‘दिनकर’- कुरुक्षेत्र

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ (२३ सितंबर १९०८- २४ अप्रैल १९७४) हिन्दी के एक प्रमुख लेखक, कवि व निबन्धकार थे।[1][2] वे आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं। बिहार प्रान्त के बेगुसराय जिले का सिमरिया घाट उनकी जन्मस्थली है। उन्होंने इतिहास, दर्शनशास्त्र और राजनीति विज्ञान की पढ़ाई पटना विश्वविद्यालय से की। उन्होंने संस्कृत, बांग्ला, अंग्रेजी और उर्दू का गहन अध्ययन किया था।

‘दिनकर’ स्वतन्त्रता पूर्व एक विद्रोही कवि के रूप में स्थापित हुए और स्वतन्त्रता के बाद राष्ट्रकवि के नाम से जाने गये। वे छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के कवि थे। एक ओर उनकी कविताओ में ओज, विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल श्रृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति है। इन्हीं दो प्रवृत्तियों का चरम उत्कर्ष हमें उनकी कुरुक्षेत्र और उर्वशी नामक कृतियों में मिलता है।

उर्वशी को भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार जबकि कुरुक्षेत्र को विश्व के १०० सर्वश्रेष्ठ काव्यों में ७४वाँ स्थान दिया गया।

वह कौन रोता है वहाँ–
इतिहास के अध्याय पर,
जिसमें लिखा है, नौजवानों के लहू का मोल है
प्रत्यय किसी बूढ़े, कुटिल नीतिज्ञ के व्याहार का;
जिसका हृदय उतना मलिन जितना कि शीर्ष वलक्ष है;
जो आप तो लड़ता नहीं,
कटवा किशोरों को मगर,
आश्वस्त होकर सोचता,…

 

To read more please click here-

http://www.hindisamay.com/e-content/RamdhariSingh-Dinker-Kurukshetra.pdf

Image result for Images- Kurukshetra- free download

Advertisements

About Indira

I knew all along that life is about, love, compassion, compatibility and friendship, but now I have discovered that life is also about sharing the thoughts, encouraging others and getting encouraged. So here I am with my blogs about life, friendship, love, and whatever life has taught me.

3 responses »

कुछ तो कहिये

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Babsje Heron

Great Blue Herons: A study in patience and grace

P.A. Moed

Creative Exploration in Words and Pictures

Globe&Life

Through life and strife, all may still thrive.

Mugilan Raju

Prime my subconscious, one hint at a time

thehouseofbailey

Destination Dreams

Frank J. Tassone

haikai poetry matters

Julia Elizabeth Blog

Canadian/Norwegian Blogger & Freelance Writer

radhikasreflection

Everyday musings ....Life as I see it.......my space, my reflections and thoughts !!

Trizahs RANDOM THOUGHTS

DIARY OF A SOCIALLY AWKWARD GIRL.

A Life Less Ordinary With SauraBhavna

Fight for the fairytale, it does exist

fauxcroft

living life in conscious reality

Quaint Revival

quirks, quips & photo clicks

Don't hold your breath

Tripping the world, slowly

Word of the Day Challenge

Alternative haven for the Daily Post's mourners!

Go Dog Go Café

Where writers gather

ONE TUSK

From Confusion to Self Discovery

teleportingweena

~wandering through life in my time machine...you never know where it will stop next~

A Unique Title For Me

Hoping to make the world more beautiful

%d bloggers like this: