RSS Feed

रामधारी सिंह ‘दिनकर’- कुरुक्षेत्र

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ (२३ सितंबर १९०८- २४ अप्रैल १९७४) हिन्दी के एक प्रमुख लेखक, कवि व निबन्धकार थे।[1][2] वे आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं। बिहार प्रान्त के बेगुसराय जिले का सिमरिया घाट उनकी जन्मस्थली है। उन्होंने इतिहास, दर्शनशास्त्र और राजनीति विज्ञान की पढ़ाई पटना विश्वविद्यालय से की। उन्होंने संस्कृत, बांग्ला, अंग्रेजी और उर्दू का गहन अध्ययन किया था।

‘दिनकर’ स्वतन्त्रता पूर्व एक विद्रोही कवि के रूप में स्थापित हुए और स्वतन्त्रता के बाद राष्ट्रकवि के नाम से जाने गये। वे छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के कवि थे। एक ओर उनकी कविताओ में ओज, विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल श्रृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति है। इन्हीं दो प्रवृत्तियों का चरम उत्कर्ष हमें उनकी कुरुक्षेत्र और उर्वशी नामक कृतियों में मिलता है।

उर्वशी को भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार जबकि कुरुक्षेत्र को विश्व के १०० सर्वश्रेष्ठ काव्यों में ७४वाँ स्थान दिया गया।

वह कौन रोता है वहाँ–
इतिहास के अध्याय पर,
जिसमें लिखा है, नौजवानों के लहू का मोल है
प्रत्यय किसी बूढ़े, कुटिल नीतिज्ञ के व्याहार का;
जिसका हृदय उतना मलिन जितना कि शीर्ष वलक्ष है;
जो आप तो लड़ता नहीं,
कटवा किशोरों को मगर,
आश्वस्त होकर सोचता,…

 

To read more please click here-

http://www.hindisamay.com/e-content/RamdhariSingh-Dinker-Kurukshetra.pdf

Image result for Images- Kurukshetra- free download

Advertisements

About Indira

I knew all along that life is about, love, compassion, compatibility and friendship, but now I have discovered that life is also about sharing thought, encouraging others and getting encouraged. So here I am with my blogs about life, friendship, love, and whatever life has taught me.

2 responses »

कुछ तो कहिये

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

somkritya

"in nonsense is strength"

Der Weg ist das Ziel

Via destinatum est .The journey is the destination .

CreativeSiba

I am a Banker cum Blogger and a Photographer.My Blogs will definitely take you deep in to my Photography skills along with my words flowing in to sentences.I will share My Poetic as well as Shayeri moods as well.Be Happy........

The Review Author

Book Reviews| Tiny tales

NSP GoStranger

~ Poems,Novels and Life Events..

plasticsouls

We stand against the Crimson Window , drowning in obscurity

Poetry On My Mind

journey through my poetic mind

NJSays

Jumbled Mumbled Words

Cavalaire in English

Visit Cavalaire sur Mer in English

Russel Ray Photos

Life from Southern California, mostly San Diego County

TheCagedBirdSings

The song of a heart can never be caged...

lifemusingssite

musings about life, food, culture, people etc

Opinionista per Caso2

il mondo nella fotografia di strada di Violeta Dyli ... my eyes on the road through photography

%d bloggers like this: